जो किसी रहगुज़र का हो जाए!

हमारा अज़्म-ए-सफ़र कब किधर का हो जाए,
ये वो नहीं जो किसी रहगुज़र का हो जाए|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply