यूँ गिरा भूल गया सवाल भी!

मेरी तलब था एक शख़्स वो जो नहीं मिला तो फिर,
हाथ दुआ से यूँ गिरा भूल गया सवाल भी|

परवीन शाकिर

Leave a Reply