रूह के और जाल भी!

उसके ही बाज़ुओं में और उसको ही सोचते रहे,
जिस्म की ख़्वाहिशों पे थे रूह के और जाल भी|

परवीन शाकिर

Leave a Reply