इक दुनिया नई पैदा करें!

इस पुरानी बेवफ़ा दुनिया का रोना कब तलक,
आइए मिल-जुल के इक दुनिया नई पैदा करें|

नज़ीर बनारसी

Leave a Reply