न समझ सकें तो पानी!

मिरी बे-ज़बान आँखों से गिरे हैं चंद क़तरे,
वो समझ सकें तो आँसू न समझ सकें तो पानी|

नज़ीर बनारसी

Leave a Reply