तुम्हें याद हो कि न याद हो!

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो,
वही या’नी वा’दा निबाह का तुम्हें याद हो कि न याद हो|

मोमिन खाँ मोमिन

Leave a Reply