वो नए गिले वो शिकायतें!

वो नए गिले वो शिकायतें वो मज़े मज़े की हिकायतें,
वो हर एक बात पे रूठना तुम्हें याद हो कि न याद हो|

मोमिन खाँ मोमिन

Leave a Reply