सो निबाहने का तो ज़िक्र क्या!

सुनो ज़िक्र है कई साल का कि किया इक आप ने वा’दा था,
सो निबाहने का तो ज़िक्र क्या तुम्हें याद हो कि न याद हो|

मोमिन खाँ मोमिन

Leave a Reply