दीवारों से टकरा के बिखर जाते हैं!

छत की कड़ियों से उतरते हैं मिरे ख़्वाब मगर,
मेरी दीवारों से टकरा के बिखर जाते हैं|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply