कोई हमारा न रहा!

कोई हम-दम न रहा कोई सहारा न रहा,
हम किसी के न रहे कोई हमारा न रहा|

मजरूह सुल्तानपुरी

Leave a Reply