फिर से बुला ले वो इशारा न रहा!

क्या बताऊँ मैं कहाँ यूँही चला जाता हूँ,
जो मुझे फिर से बुला ले वो इशारा न रहा|

मजरूह सुल्तानपुरी

2 Comments

  1. vermavkv says:

    बहुत सुंदर।

    1. shri.krishna.sharma says:

      हार्दिक धन्यवाद जी।

Leave a Reply