क्या ख़ता दरगुज़र नहीं होती!

दोस्तो इश्क़ है ख़ता लेकिन,
क्या ख़ता दरगुज़र नहीं होती|

इब्न ए इंशा

Leave a Reply