हमीं को ख़बर नहीं होती!

शाम-ए-ग़म की सहर नहीं होती,
या हमीं को ख़बर नहीं होती|

इब्न ए इंशा

Leave a Reply