लकीरें खींच रहा है फ़ज़ाओं में!

काली लकीरें खींच रहा है फ़ज़ाओं में,
बौरा गया है मुँह से क्यूँ खुलता नहीं धुआँ|

गुलज़ा

Leave a Reply