यही रीत है ऐ शाख़-ए-गुल!

इस गुलिस्ताँ की यही रीत है ऐ शाख़-ए-गुल,
तूने जिस फूल को पाला वो पराया होगा|

कैफ़ भोपाली

Leave a Reply