वही जो राहत-ए-जाँ!

वही जो दौलत-ए-दिल है वही जो राहत-ए-जाँ,
तुम्हारी बात पे ऐ नासेहो गँवाऊँ उसे|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply