किताबों की तरह पढ़ने लगे!

एक इक पल को किताबों की तरह पढ़ने लगे,
उम्र भर जो न किया हम ने वो अब करते हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply