मगर बात ही कब करते हैं!

ख़ुद को पत्थर सा बना रक्खा है कुछ लोगों ने,
बोल सकते हैं मगर बात ही कब करते हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply