कल क्यूँ कभी तो आज भी हो!

रहेगी वा’दों में कब तक असीर ख़ुश-हाली,
हर एक बार ही कल क्यूँ कभी तो आज भी हो|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply