जो बदलता है वो समाज भी हो!

हुकूमतों को बदलना तो कुछ मुहाल नहीं,
हुकूमतें जो बदलता है वो समाज भी हो|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply