तेज़ हवाएँ हैं बिखर जाओगे!

घर से निकले तो हो सोचा भी किधर जाओगे,
हर तरफ़ तेज़ हवाएँ हैं बिखर जाओगे|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply