इक चराग़ कई आँधियों पे भारी है!

दुआ करो कि सलामत रहे मिरी हिम्मत,
ये इक चराग़ कई आँधियों पे भारी है|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply