उड़ानों पे वक़्त भारी है!

उड़ान वालो उड़ानों पे वक़्त भारी है,
परों की अब के नहीं हौसलों की बारी है|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply