आख़िर इस दर्द की दवा क्या है!

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है,
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है|

मिर्ज़ा ग़ालिब

Leave a Reply