गुल-ए-ज़ार के वो खिलाने की रातें!

जवानी की दोशीज़गी का तबस्सुम,
गुल-ए-ज़ार के वो खिलाने की रातें|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply