ठिकाने के दिन या ठिकाने की रातें!

‘फ़िराक़’ अपनी क़िस्मत में शायद नहीं थे,
ठिकाने के दिन या ठिकाने की रातें|

फ़िराक़ गोरखपु
री

Leave a Reply