चल नगरी में सौदागर हो!

अब हुस्न का रुत्बा आली है अब हुस्न से सहरा ख़ाली है,
चल बस्ती में बंजारा बन चल नगरी में सौदागर हो|

इब्न ए इंशा

Leave a Reply