किसी ख़ुदा की इनायत नहीं रही!

हमने तमाम उम्र अकेले सफ़र किया,
हम पर किसी ख़ुदा की इनायत नहीं रही|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply