ज़िंदगी बैठी रही पर्दा किए!

अहल-ए-दिल सहरा में गुम होते रहे,
ज़िंदगी बैठी रही पर्दा किए|

राही मासूम रज़ा

Leave a Reply