हवा की ज़ंजीरें पहनेंगे धूम मचाएँगे!

मौज-ए-हवा की ज़ंजीरें पहनेंगे धूम मचाएँगे,
तन्हाई को गीत में ढालेंगे गीतों को गाएँगे|

राही मासूम रज़ा

Leave a Reply