अपना बना के देख लिया!

वो मिरे हो के भी मिरे न हुए,
उनको अपना बना के देख लिया|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply