इश्क़ को आज़मा के देख लिया!

‘फ़ैज़’ तकमील-ए-ग़म भी हो न सकी,
इश्क़ को आज़मा के देख लिया|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply