शाम का मंज़र तिरी आँखें!

अब तक मिरी यादों से मिटाए नहीं मिटता,
भीगी हुई इक शाम का मंज़र तिरी आँखें|

मोहसिन नक़वी

Leave a Reply