आँख में जाले थे ख़्वाब के!

सोए तो दिल में एक जहाँ जागने लगा,
जागे तो अपनी आँख में जाले थे ख़्वाब के|

आदिल मंसूरी

Leave a Reply