क़तील हैं उसी ख़ाना-ख़राब के!

वो जो तुम्हारे हाथ से आकर निकल गया,
हम भी क़तील हैं उसी ख़ाना-ख़राब के|

आदिल मंसूरी

Leave a Reply