तिरी आँख कैसे झपक गई!

मिरी दास्ताँ का उरूज था तिरी नर्म पलकों की छाँव में,
मिरे साथ था तुझे जागना तिरी आँख कैसे झपक गई|

बशीर बद्र

Leave a Reply