हज़ारों शेर मेरे सो गए!

हज़ारों शेर मेरे सो गए काग़ज़ की क़ब्रों में,
अजब माँ हूँ कोई बच्चा मिरा ज़िंदा नहीं रहता|

बशीर बद्र

Leave a Reply