निगाहों से अदा होते हैं!

हाल-ए-दिल मुझ से न पूछो मिरी नज़रें देखो,
राज़ दिल के तो निगाहों से अदा होते हैं|

मजरूह सुल्तानपुरी

Leave a Reply