तिरे शहर से जाते हुए मर जाते हैं!

घर पहुँचता है कोई और हमारे जैसा,
हम तिरे शहर से जाते हुए मर जाते हैं|

अब्बास ताबिश

Leave a Reply