निभाते हुए मर जाते हैं!

हम हैं सूखे हुए तालाब पे बैठे हुए हंस,
जो तअ’ल्लुक़ को निभाते हुए मर जाते हैं|

अब्बास ताबिश

Leave a Reply