कोई रहबर रस्ता काट गया!

कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया,
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की|

गुलज़ार

Leave a Reply