ख़्वाब ने सारी रात जगाया है!

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की|

गुलज़ार

Leave a Reply