चाँद का ख़ंजर घोंप के सीने में!

कल फिर चाँद का ख़ंजर घोंप के सीने में,
रात ने मेरी जाँ लेने की कोशिश की|

गुलज़ार

Leave a Reply