अधूरे ही!

आज फिर हिन्दी के विख्यात कवि स्वर्गीय भवानीप्रसाद मिश्र जी की एक कविता शेयर कर रहा हूँ| फिल्मी दुनिया के अपने अनुभव को देखते हुए खुद को ‘गीतफ़रोश’ कहने वाले भवानी दादा की बहुत सी कविताएं मैंने पहले भी शेयर की हैं|

लीजिए आज प्रस्तुत है स्वर्गीय भवानीप्रसाद मिश्र जी की यह कविता, जिसमें उन्होंने बखूबी मन की बात की है –

अधूरे मन से ही सही
मगर उसने
तुझसे मन की बात कही

पुराने दिनों के अपने
अधूरे सपने
तेरे क़दमों में

ला रखे उसने
तो तू भी सींच दे
उसके

तप्त शिर को
अपने आंसुओं से

डाल दे उस पर
अपने आँचल की
छाया
क्योंकि उसके थके – मांदे दिनों में भी
उसे चाहिए
एक मोह माया

मगर याद रखना पहले-जैसा
उद्दाम मोह

पहले -जैसी ममत्व भरी माया
उसके वश की
नहीं है
ज़्यादा जतन नहीं है ज़रूरी
बस उसे
इतना लगता रहे

कि उसके सुख-दुःख को
समझने वाला
यहीं -कहीं है!


(आभार- एक बात मैं और बताना चाहूँगा कि अपनी ब्लॉग पोस्ट्स में मैं जो कविताएं, ग़ज़लें, शेर आदि शेयर करता हूँ उनको मैं सामान्यतः ऑनलाइन उपलब्ध ‘कविता कोश’ अथवा ‘Rekhta’ से लेता हूँ|)

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
********

Leave a Reply