आँखें खोल कर सोने लगा था!

लगे रहते थे सब दरवाज़े फिर भी,
मैं आँखें खोल कर सोने लगा था|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply