ज़माने में यही होता रहा है!

मोहब्बत में ‘फ़िराक़’ इतना न ग़म कर,
ज़माने में यही होता रहा है|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply