महक सी है बाग़ में बाक़ी!

वो तो आ के ‘मुनीर’ जा भी चुका,
इक महक सी है बाग़ में बाक़ी|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply