शोले की लपक भूल भी जाएँ!

हम शौक़ के शोले की लपक भूल भी जाएँ,
वो शम-ए-फ़सुर्दा का धुआँ याद रहेगा|

इब्न-ए-इंशा

Leave a Reply