अँधेरी सुरंग हूँ!

रिश्ते गुज़र रहे हैं लिए दिन में बत्तियाँ,
मैं बीसवीं सदी की अँधेरी सुरंग हूँ|

सूर्यभानु गुप्त