पत्थरों में चीख़ हर्गिज़—

आज मेरा साथ दो वैसे मुझे मालूम है,
पत्थरों में चीख़ हर्गिज़ कारगर होगी नहीं|

दुष्यंत कुमार